Header Ads

Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke
 बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

Dosto is lekhme Maa Durga Chalisaka path karneke best 5 faayade ke baareme padhaneko milega. Vo ye lekh padhakar aap sab jan jaayenge. To chaliye jante hai ke Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Karne Ke baareme janlete hai. Is likhme Maa Durga Chalisaka pura path ka pdf bhi diya hai jo aap dawnload karke bar bar padh shakte hai. Anant Bhakti: Durga Chaaleesa Ke Mahatva Ka Gyaan. Durga chaaleesa ka paath karane se ghar mein sukh, samrddhi aur samrddhi aatee hai.

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke
Vivaran: Mitro Durga Chaaleesa Ka Paath Karake Aap Devee Durga Kee Krpa Ko Jaan Sakate Hain, Yah Ek Shaktishaalee Bhajan Hai Jo Devee Durga Kee Adbhut Shakti Ka Varnan Karata Hai.

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

Parichay:

Is lekh mein, hamane sampoorn Durga Chalisa anushthaan ka varnan kiya hai. Unake svaroop aur shakti ka varnan kiya gaya hai aur Durga Chalisa ka paath jeevan ko badalane kee shakti rakhata hai. Durga Chalisa Adhyaatmik krupa ke liye: aadhyaatmik krpa ke lie durga chaaleesa ek jap mantr hai jo Devi Durga kee raajasee shakti ka prateek hai. Yadi bhakt bhaktipoorvak pratyek shlok ka paath karate hain, to unhen daiveey krpa aur suraksha milatee hai. Durga Chalisa ke kendr mein chaleesa chhand hain jo Devi Durga ke vibhinn roopon aur gunon ka sookshmata se varnan karate hain. Yah path keval shabdon se kaheen adhik hai; ve paramaatma ke saath divy vaartaalaap karate hain. Pratyek shlok us gahan aasheervaad aur suraksha ko darshaata hai jo devee durga apane bhakton ko pradaan karatee hain divy maan ka moort svarup (Durga Chalisa) jaise hee ham is Durga Chalisa ko shuroo karate hain, Durga chalisa kee pahalee pankti devee durga kee divy maan ke roop mein ek jvalant tasveer pesh karatee hai, jo apane bheetar brahmaand ko samaahit karatee hai. Yah shlok sampoorn mantr ke lie svar nirdhaarit karata hai, Devi kee sarvavyaapee oorja ka srot jo hamaare shareer mein vyaapt hai jo sampoorn shrushti ka poshan, suraksha aur maargadarshan karatee hai.

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

(1) Buraee Par Achchhaee Kee Vijay (Durga Chalisa):                                                        Ek aur manamohak shlok maan durga dvaara raakshas mahishaasur ke vadh kee kahaanee bataata hai. Yah kahaanee buraee par dharm kee shaashvat vijay ka prateek hai. Jab ham is shlok ka paath karate hain, to ham chunautiyon aur pratikoolataon par kaaboo paane ke lie apane bheetar kee aantarik shakti se avagat ho jaate hain.

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

(2) Bhakton ke rakshak (durga chaaleesa ka paath): Devi Durga ke sabase priy aasheervaadon mein se ek apane bhakton kee raksha karane kee unakee krpa rahatee hai. Durga Chalisa mein sundar surakshaatmak Devi ko darshaaya gaya hai jo apane bhakton ko nukasaan se bachaatee hai. Jab ham is shlok (Chalisa)ka paath karate hain, to hamen jeevan kee nakaaraatmakata ko door karane, hamaare bhay aur asurakshaon ko door karane ke lie isakee divy dhaal dee jaatee hai.                     (3) Tyauhaar Aur Vishesh Avasar Par Bhakti Ke Lie Durga Chalisaka paath: Navaraatri ke shubh tyohaar ke dauraan, duniya bhar se bhakt devee durga kee pooja karane ke lie ekajut hote hain. Durga chaaleesa ka paath utsav ka ek abhinn ang hai, jo isaka paath karane vaalon ke beech ekata aur aadhyaatmik utthaan kee bhaavana ko badhaava deta hai.

(4) Durga Chaaleesa Ka Path Kaise Karen: Durga chaaleesa ka paath karane ke laabhon ka anubhav karane ke lie nimnalikhit anushthaan ka paalan karen:                                                        (5)Paath Ke Lie Ek Pavitr Sthaan Nirdhaarit Karen: Paath shuroo karane se pahale, devee durga se aap kya chaahate hain, isaka spasht iraada nirdhaarit karen.                                                        Ek Pavitr Sthaan Banaen: Ek shaantipoorn kona dhoondhen jahaan aap shaanti se aur bina kisee rukaavat ke jap kar saken.                                                                                                                                                                   Bhakti Bhaav Se Maan Durga Ka Aahvaan Karen: Maan durga ke prati apanee bhakti ke prateek ke roop mein ek deepak ya dhoop jalaen.                                                                                                                             Jap Shuroo Karen: Pratyek shlok ko dhyaan aur eemaanadaaree ke saath padhen, pratyek shabd kee pratidhvani ko apane bheetar mahasoos karen.                                                                                                       Aabhaar Vyakt Karen: Eeshvareey aasheervaad ke lie aabhaar vyakt karake apana paath samaapt karen.

अनंत भक्ति: दुर्गा चालीसा के महत्व का ज्ञान:

दोस्तों इस लेखमे में आपको दुर्गा चालीसा का पाठ करने नियम और फायदे के बारेमे बताऊंगा। तो चलिये बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा  करने के बारेमे। दोस्तों इस लेखमे मेने माँ दुर्गा चालीसा का पूरा पीडीऍफ़ भी दिया है जो आप डाउनलोड करके बार बार पढ़ शकते है। दुर्गा चालीसा का पाठ करने से घर में सुख, समृद्धि और समृद्धि आती है -
बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke
विवरण: मित्रो दुर्गा चालीसा का पाठ करके आप देवी दुर्गा की कृपा को जान सकते हैं, यह एक शक्तिशाली भजन है जो देवी दुर्गा की अद्भुत शक्ति का वर्णन करता है।

परिचय:

इस लेख में, हमने संपूर्ण दुर्गा चालीसा अनुष्ठान का वर्णन किया है। उनके स्वरूप और शक्ति का वर्णन किया गया है और दुर्गा चालीसा का पाठ जीवन को बदलने की शक्ति रखता है।

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

दुर्गा चालीसा: आध्यात्मिक कृपा के लिए: दुर्गा चालीसा एक जप मंत्र है जो देवी दुर्गा की राजसी शक्ति का प्रतीक है। यदि भक्त भक्तिपूर्वक प्रत्येक श्लोक का पाठ करते हैं, तो उन्हें दैवीय कृपा और सुरक्षा मिलती है। दुर्गा चालीसा के केंद्र में चालीस छंद हैं जो देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों और गुणों का सूक्ष्मता से वर्णन करते हैं। यह पाठ केवल शब्दों से कहीं अधिक है; वे परमात्मा के साथ दिव्य वार्तालाप करते हैं। प्रत्येक श्लोक उस गहन आशीर्वाद और सुरक्षा को दर्शाता है जो देवी दुर्गा अपने भक्तों को प्रदान करती हैं

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

दिव्य माँ का मूर्त स्वरुप (दुर्गा चालीसा): जैसे ही हम इस दुर्गा चालीसा को शुरू करते हैं, दुर्गा चालीसा की पहली पंक्ति देवी दुर्गा की दिव्य मां के रूप में एक ज्वलंत तस्वीर पेश करती है, जो अपने भीतर ब्रह्मांड को समाहित करती है। यह श्लोक संपूर्ण मंत्र के लिए स्वर निर्धारित करता है, देवी की सर्वव्यापी ऊर्जा का स्रोत जो हमारे शरीर में व्याप्त है जो संपूर्ण सृष्टि का पोषण, सुरक्षा और मार्गदर्शन करती है।

बुराई पर अच्छाई की विजय (दुर्गा चालीसा): एक और मनमोहक श्लोक माँ दुर्गा द्वारा राक्षस महिषासुर के वध की कहानी बताता है।(महिषासुर नुप अति अभिमानी) यह कहानी बुराई पर धर्म की शाश्वत विजय का प्रतीक है। जब हम इस श्लोक का पाठ करते हैं, तो हम चुनौतियों और प्रतिकूलताओं पर काबू पाने के लिए अपने भीतर की आंतरिक शक्ति से अवगत हो जाते हैं। हमारे जीवनमे  नकारात्मकता का होता है नाश किसी शुभ अवसर या नवरात्रि के दौरान दुर्गा चालीसा का पाठ करने से जीवन में सकारत्मक ऊर्जा का संचार होता है।

जीवनके कष्टों से मिलती है मुक्ति मिलती है।

सारे दुखों से मिलती है राहत मिल जाती है ।

हमारी सामाजिक स्थिति में होता है सुधार होता है। 

हमारे मानसिक विकास में सहायक होता है। 

भक्तों के रक्षक (दुर्गा चालीसा का पाठ)

देवी दुर्गा के सबसे प्रिय आशीर्वादों में से एक अपने भक्तों की रक्षा करने की उनकी कृपा रहती है। दुर्गा चालीसा में सुंदर सुरक्षात्मक देवी को दर्शाया गया है जो अपने भक्तों को नुकसान से बचाती है। जब हम इस श्लोक (चालीसा) का पाठ करते हैं, तो हमें जीवन की नकारात्मकता को दूर करने, हमारे भय और असुरक्षाओं को दूर करने के लिए इसकी दिव्य ढाल दी जाती है।

त्यौहार और विशेष अवसर भक्ति के लिए दुर्गा चालीसा पाठ

नवरात्रि के शुभ त्योहार के दौरान, दुनिया भर से भक्त देवी दुर्गा की पूजा करने के लिए एकजुट होते हैं। दुर्गा चालीसा का पाठ उत्सव का एक अभिन्न अंग है, जो इसका पाठ करने वालों के बीच एकता और आध्यात्मिक उत्थान की भावना को बढ़ावा देता है।

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें:

दुर्गा चालीसा का पाठ करने के लाभों का अनुभव करने के लिए निम्नलिखित अनुष्ठान का पालन करें:

पाठ के लिए एक पवित्र स्थान निर्धारित करें: पाठ शुरू करने से पहले, देवी दुर्गा से आप क्या चाहते हैं, इसका स्पष्ट इरादा निर्धारित करें।

एक पवित्र स्थान बनाएं: एक शांतिपूर्ण कोना ढूंढें जहां आप शांति से और बिना किसी रुकावट के जप कर सकें।

भक्ति भाव से मां दुर्गा का आह्वान करें: मां दुर्गा के प्रति अपनी भक्ति के प्रतीक के रूप में एक दीपक या धूप जलाएं।

जप शुरू करें: प्रत्येक श्लोक को ध्यान और ईमानदारी के साथ पढ़ें, प्रत्येक शब्द की प्रतिध्वनि को अपने भीतर महसूस करें।

आभार व्यक्त करें: ईश्वरीय आशीर्वाद के लिए आभार व्यक्त करके अपना पाठ समाप्त करें।

बेस्ट ५ फायदे माँ दुर्गा चालीसा करने के-Best 5 Faayade Maa Durga Chalisa Kaneke

Maa Durga Chalisa

श्री माँ दुर्गा चालीसा

॥ दोहा ॥

ॐ  सर्व मंगल मांगल्ये   शिवेसर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोऽस्तुते॥

नमो    नमो    दुर्गे     सुख       करनी,

नमो   नमो      अम्बे     दुःख हरनी।

निरंकार      है      ज्योति      तुम्हारी,

तिहुँ     लोक      फैली        उजियारी।

शशि  ललाट    मुख  महा  विशाला,

नेत्र   लाल      भुकृति      विकराला।

रूप     मातृको      अधिक      सुहावे,

दरश करत  जन अति  सुख पावै।

तुम   संसार    शक्ति      लै   कीना,

पालन हेतु अति  अन्न धन दीना।

अन्नपूर्णा     हुई         जग       पाला,

तुम्ही           आदि           सुंदरीबाला।

प्रलयकाल       सब          नाशनहारी,

तुम     गौरी     शिवशंकर     प्यारी।

शिव    योगी    तुम्हारे   गुण  गावै,

ब्रम्हा   विष्णु    तुम्हे   नितध्यावे।

रूप  सरस्वती    का     तुम     धारा,

हे सुबुद्धि ऋषि   मुनीन उभारा।

धर्यो   रूप   नरसिह    को   अम्बा,

परगट  भई    फाड़    के   खम्भा।

रक्षा    करी      प्रहलाद      बचायो,

हिरयाणक्ष   को   स्वर्ग    पठायो।

लक्ष्मी   रूप   धरो   जग    माहि,

श्री     नारायण     अंग    समाही।

क्षीर   सिन्धु  में करत  विलाशा,

दया   सिन्धु  दीजै    मन आशा।

हिंगलाज      में    तुंम्ही    भवानी,

महिमा अमित न जात बखानी।

मातंगी           घूमावती         माता,

भुवनेश्वरी     बगला      सुखदाता।

श्री   भैरव   तारा   जग    तारिणी,

छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी।

केहरी      वाहन        सोहे      भवानी,

लंगूर      वीर      चलत     अगवानी।

करमे      खप्पर      खड़क      विराजै,

जाको    देख    काल    डर    भाजै।

 सोहे      अस्त्र      और       तिरशूला,

जाते    उठे     क्षत्रु     हिय     शूला।

नगरकोट     में   तुम्हीं    विराजत,

तिहु   लोक    में   डंका     बाजत।

शुंभ निशुंभः दानव  तुम  मारे,

रक्तबीज          संखन         संहारे।

महिषासुर नुप अति    अभिमानी,

जेही अध भार   मही   अकुलानी।

रूप   कराल   काली    का      धारा,

सेन   सहित   तुम   तिहि संहारा।

परी  भीड़  संतन  पर  जब   जब,

भई  सहाय मातृ तुम  तब  तब।

अमरपुरी      अरु       सब      लोका,

तव   महिमा   सब   रहे   अशोका।

ज्वाला   में   है   ज्योति    तुम्हारी,

तुम्हे     सदा     पूजे     नर    नारी।

प्रेम   भक्ति   से   जो   यस  गावै,

दुःख   दारिद्र    निकट   नहीं आवै।

ध्यावै  तुम्हें  जो  नर  मन  लाइ,

जन्म   मरण  ताकौ   छूटी  जाई।

जोगी  सुर   मुनि   कहत   पुकारी,

योग न होइ बिन शक्ति तुम्हारी।

शंकर     आचारज     तप      कीनो,

काम   क्रोध    जीती   सब  लोनो।

निशदिन   ध्यान धरो शंकर को,

काहू काल  नहीं सुमिरो तुमको।

शक्ति  रूप को  मरम  न पायो,

शक्ति  गई  तब मन  पछतायो।

शरणागत   हुई    कीर्ति    बखानी,

जय जय जय जगदम्बा भवानी।

भई    प्रसन्न    आदि     जगदम्बा,

दई   शक्ति   नहीं  किन  विलंबा।

मोको  मातृ    कष्ट     अति    घेरो,

तुम  बिन  कौन  दुःख  हरे  मेरो।

आशा     तृष्णा     निपट     सतावै,

रिपू  मूरख  मोहि अति डर पावै।

शत्रु     नाश       कीजै       महारानी,

सुमिरौ  इक  चित तुम्हें भवानी।

करो    कृपा   हे      मातृ     दयाला,

रिद्धि सिद्धि दै करहु निहाला।

जब  लागी  जिऊ  दयाफल   पाउ,

तुम्हरों यस यस मै सदा सुनाऊ।

दुर्गा   चालीसा    जो    कोई    गावै,

सब  सुख  भोग  परम   पद  पावै।

देवीदास     शरण     निज     जानी।

करहु   कृपा     जगदंबा   भवानी।

॥दोहा॥

शरणागत    रक्षा    करे,

भक्त     रहे    नि:शंक ।

मैं  आया   तेरी  शरण  में,

मातु    लिजिये    अंक ॥

॥ इति श्री दुर्गा चालीसा संपूर्णम॥

Nishkarsh: Durga chaaleesa keval chhandon ka sangrah nahin hai; yah divy durga ke aasheervaad aur aadhyaatmik parivartan ke lie ek saadhana hai. Jab aap is paath ke layabaddh jap mein doob jaate hain, to aap devee durga kee sarvashaktimaan oorja ko apane jeevan mein aamantrit karate hain. Yah sarvavyaapee hai jo is mantr ka paath karane vaale har vyakti ke dil mein goonjata hai, jo unhen durga ke prem aur suraksha kee divy ekaagrata se jodata hai.

निष्कर्ष: दुर्गा चालीसा केवल छंदों का संग्रह नहीं है; यह दिव्य दुर्गा के आशीर्वाद और आध्यात्मिक परिवर्तन के लिए एक साधना है। जब आप इस पाठ के लयबद्ध जप में डूब जाते हैं, तो आप देवी दुर्गा की सर्वशक्तिमान ऊर्जा को अपने जीवन में आमंत्रित करते हैं। यह सर्वव्यापी है जो इस मंत्र का पाठ करने वाले हर व्यक्ति के दिल में गूंजता है, जो उन्हें दुर्गा के प्रेम और सुरक्षा की दिव्य एकाग्रता से जोड़ता है।

दुर्गा चालीसा के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

F.A.Q. About Maa Durga Chalisa

प्रश्न 1: क्या कोई भी दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकता है                                                                           उत्तर: हां, दुर्गा चालीसा हर किसी के लिए है और इसे कोई भी कर सकता है, चाहे वह किसी भी उम्र, लिंग या पृष्ठभूमि का हो। दुर्गा सर्वव्यापी हैं.                                                                                                              प्रश्न 2: मुझे कितनी बार दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहिए                                                                       उत्तर: हालाँकि इसका कोई सख्त नियम नहीं है, फिर भी कई भक्त इसका पाठ प्रतिदिन या नवरात्रि जैसे शुभ अवसरों पर करना पसंद करते हैं। यह पाठ एक बार या सात बार किया जा सकता है।                       प्रश्न 3: क्या दुर्गा चालीसा का पाठ करने के कोई विशेष लाभ हैं?                                                                   उत्तर: दुर्गा चालीसा का पाठ करने से आध्यात्मिक उत्थान, सुरक्षा और आंतरिक शांति की अनुभूति होती है। ऐसा माना जाता है कि यह जीवन में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करने में मदद करता है।               प्रश्न 4: क्या गैर-हिन्दू भी दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकते हैं?                                                                       उत्तर: निश्चित रूप से, दुर्गा चालीसा का पाठ करने की आध्यात्मिक शक्ति धार्मिक सीमाओं को पार नहीं करती है। इसका पाठ कोई भी कर सकता है.                                                                                               प्रश्न 5: क्या दुर्गा चालीसा का पाठ करने का कोई विशेष समय है?                                                               उत्तर: हालाँकि आप इसे किसी भी समय पढ़ सकते हैं, लेकिन शांत और केंद्रित अध्ययन के लिए सुबह और शाम को अक्सर अनुशंसित किया जाता है। यदि संभव हो तो इसे प्रातः 08:00 बजे से पहले कर लेना चाहिए।                                                                                                                                                       प्रश्न 6: क्या दुर्गा चालीसा का अंग्रेजी अनुवाद उपलब्ध है?                                                                               उत्तर: हाँ, ऐसे अनेक अनुवाद उपलब्ध हैं जो प्रत्येक श्लोक के अर्थों की जानकारी देते हैं। और दुर्गा का किसी भी भाषा में अनुवाद और पाठ किया जा सकता है                                                                               प्रश्न 7: क्या दुर्गा लक्ष्मी की माता हैं?                                                                                                               उत्तर: हाँ दुर्गा माँ पार्वती का अवतार हैं जिन्होंने राक्षस शुंभ निशुंभ को मारने के लिए जन्म लिया था। तो दुर्गा माँ ही पार्वती माँ हैं, इसलिए दुर्गा लक्ष्मी की माँ हैं।                                                                                   प्रश्न 8: क्या दुर्गा शिव की पत्नी हैं?                                                                                                                   उत्तर: शिव की पत्नी उमा, सती, पार्वती, दुर्गा और काली के विभिन्न रूप एक ही माँ पार्वती के रूप हैं जिन्होंने पृथ्वी पर असुरों और राक्षसों का विनाश करने और मानव जाति की रक्षा करने के लिए ऐसे रूपों में जन्म लिया; इसलिए शिव इन देवी-देवताओं के शक्ति रूपों से जुड़े हैं, जो शक्ति का अवतार हैं। तो दुर्गा का रूप, भगवान शिव की पत्नी पार्वती का रूप होने के नाते, अपने पुत्रों-स्कंद और हाथी के सिर वाले गणेश के साथ-हिमालय में कैलास पर्वत पर रहता है।                                                                                  प्रश्न 9: दुर्गा के पिता कौन हैं?                                                                                                                           उत्तर: हिमवान दुर्गा के पिता हैं।                                                                                                                   प्रश्न 10 दुर्गा की माता कौन है?                                                                                                                       उत्तर: मैनावती दुर्गा की माता हैं। भाई-बहन गंगा (बड़ी बहन) विष्णु (औपचारिक भाई) मैनका (बड़ा भाई) बच्चे गणेश (पुत्र) कार्तिकेय (पुत्र)

No comments